सोमवार, 21 जून 2021

५८१. क़तार




आओ, दौड़कर आओ,

जल्दी से आकर 

क़तार में खड़े हो जाओ,

लम्बी क़तार है,

कुछ अच्छा ही बँट रहा होगा,

सोचने में समय मत गंवाओ,

बस शामिल हो जाओ.


जगह न मिले,

तो हटा दो किसी को,

धकेल दो, गिरा दो,

बना लो अपनी जगह,

मत सोचो कि 

सही क्या है,ग़लत क्या है.


तुम्हारा लक्ष्य बस एक ही है- 

क़तार में शामिल होना 

और ऐसी जगह खड़े होना 

कि जो कुछ भी बँट रहा है,

तुम उससे वंचित न रह जाओ.


शुक्रवार, 18 जून 2021

५८०. कोरोना में प्रेम कविताएँ

मैं कोरोना नहीं हूँ 

कि तुम मास्क लगा लो 

और दूर कर दो मुझे,

मास्क लगाकर तो तुमसे

इन्कार भी नहीं होता. 

**

यूँ परेशान मत होओ,

हाथ-पाँव मत मारो,

कोई असर नहीं होगा

रेमडेसिविर,प्लाज़्मा का,

मैं कोरोना नहीं हूँ,

एक बार घुस गया,

तो निकलता नहीं हूँ. 

**

वैसे तो हज़ारों हैं यहाँ,

पर तुम नहीं, तो कोई नहीं,

मैं कोरोना नहीं हूँ 

कि किसी का भी हो जाऊँ।


मंगलवार, 15 जून 2021

५७९. पहाड़

 


धीरे-धीरे कम हो रहा है 

आपदा का पहाड़,

चार से तीन लाख,

तीन से दो,

दो से एक,

अब एक से कम. 


साफ़ होने लगा है कुछ-कुछ 

पहाड़ के पीछे का आसमान,

उड़ते दिख रहे हैं पंछी,

बन रहा है इंद्रधनुष. 


ग़ायब हो जाएगा जल्दी ही 

यह आपदा का पहाड़,

कितना ही ताक़तवर क्यों न हो,

ख़त्म तो होना ही है इसे. 


हम कोशिश करेंगे 

कि ऐसा पहाड़  

फिर खड़ा न हो,

हो भी, तो उसकी ऊंचाई 

एक पहाड़ी से ज़्यादा न हो.


शनिवार, 12 जून 2021

५७८. पिता

 


मैंने पिता को कभी रोते नहीं देखा,

किसी अपने की मौत पर भी नहीं,

ग़म का पहाड़ टूटने पर भी नहीं, 

बस उनकी आवाज़ भर्रा जाती थी,

या दिख जाती थी थोड़ी-सी नमी

उनकी पलकों के ठीक पीछे. 


रात को मेरी नींद उचटती थी,

तो एक सिसकी सुनाई पड़ती थी,

दबी-कुचली, ज़िद्दी-सी सिसकी,

पिता थोड़े चिड़चिड़े हो गए थे,

बूढ़े होने की जल्दी में लगते थे. 


काश कि वे खुलकर रो लेते,

काश कि मैं उनसे कह पाता 

कि पिता भी कभी-कभी रो सकते हैं. 


गुरुवार, 10 जून 2021

५७७.अंत



गुलमोहर के पेड़ पर खिले 

आख़िरी फूल,

तुम्हारी जिजीविषा को सलाम।


गिरते रहे एक-एक कर 

तुम्हारे साथ खिले फूल,

पर तुम डटे रहे,

लड़ते रहे तूफ़ानों से,

भिड़ते रहे बारिशों से,

पर अब तुम्हें जाना होगा,

मिलना होगा मिट्टी में. 


जिन पत्तों से तुम घिरे हो,

जिस डाल पर खिले हो,

जिस पेड़ से जुड़े हो,

सब होंगे एक दिन धराशाई,

कोई पहले,कोई बाद में. 


यहाँ तक कि तुम्हारे पेड़ की जड़ें,

जो घुस गई हैं ज़मीन में गहरे तक,

एक दिन सूख जाएंगी,

अंत निश्चित है उनका भी.


बुधवार, 9 जून 2021

५७६.रात

 


कोई-कोई रात 

बहुत अंधेरी होती है,

पूनम का चाँद खिला हो,

तो भी ऐसा हो सकता है. 


सब दिखता है आँखों से,

पर नींद जैसे रूठकर 

कोसों दूर चली जाती है,

दिमाग़ जैसे सुन्न हो जाता है. 


ऐसे में ख़ुद को थामे रखिए,

हाथों में हाथ डाले रहिए,

इंतज़ार कीजिए,

यह वक़्त भी गुज़र जाएगा. 


कोई रात कितनी ही डरावनी क्यों न हो,

सुबह को आने से नहीं रोक सकती.


शनिवार, 5 जून 2021

५७५. दुश्मन





अँधेरी रात,

बियाबान जंगल,

बेबस,अकेला मैं. 


बढ़ी चली आ रही हैं 

मेरी ओर धीरे-धीरे 

दो चमकती आँखें,

मौत के डर से 

पसीना-पसीना 

हुआ जा रहा हूँ मैं. 


अरे,वहशी जानवर नहीं,

यह तो कोई मददगार है,

जो पास आ पहुँचा है मेरे

हाथों में दिए लिए. 


अब कोई डर नहीं,

पार कर लूँगा मैं

यह घनघोर जंगल,

चला जाऊंगा 

अँधेरे से बहुत दूर. 


कल्पनाओं का जंगल,

आशंकाओं का अँधेरा,

वहम का जानवर -

यह सारा ताना-बाना

जिसने बुना है,

वह मेरा होकर भी 

मेरा दुश्मन है.  


बुधवार, 2 जून 2021

५७४. सौ साल पहले की विधवा

 


मैं सौ साल पहले की 

वही विधवा बहू हूँ,

जो कोठरी में बंद रहती थी,

खाने के नाम पर जिसे 

सूखी रोटियाँ मिलती थीं

और दिन-भर के काम के बदले 

दुनिया-भर की झिड़कियाँ।


मैं सौ साल पहले की 

वही विधवा बहू हूँ,

जो सिर्फ़ इसलिए पिट जाती थी 

कि उसने किसी को देखकर 

थोड़ा-सा मुस्करा दिया था

या तेज़ हवा में सरक गया था 

उसका आँचल ज़रा-सा. 


मैंने फिर से जन्म लिया है 

ताकि बदला ले सकूँ उनसे,

पर जब खोजने निकलती हूँ,

तो कुछ पता ही नहीं चलता, 

हर क़दम पर मुझे 

ऐसे लोग मिलते हैं,

जिन्हें देखकर लगता है 

कि यही हैं वे,

जिन्होंने सैकड़ों साल पहले 

मुझे गर्म सलाख़ों से दागा था. 


सोमवार, 31 मई 2021

५७३. अपराध

 



सूरतें याद करो,

महसूस करो दर्द

कुछ इस तरह 

कि आँखों में आँसू आ जाएँ,

आँसू नहीं तो कम-से-कम

उदासी ही छा जाय चेहरे पर,

यह भी संभव नहीं,

तो भावहीन ही दिखो।


इस आपदा की घड़ी में 

जब जवान,बूढ़े,अपने-पराए

विदा हो रहे हों एक-एक करके,

जब कभी भी आ सकता हो 

कोई भी बुरा समाचार,

किसी भी बात पर ख़ुश होना

अपराध-सा महसूस होता है.  


शनिवार, 29 मई 2021

५७२. किरण


                                                                                                               



                                                                                                                                                               

इस कठिन समय में 

जब निराशा ने घेर लिया है                                     

हमें चारों तरफ़ से,           

बच गई है किसी कोने में 

थोड़ी-सी उम्मीद,

जैसे बंद खिड़की में 

रह गई हो कोई झिर्री,

जिससे घुस आई हो 

प्रकाश की किरण कमरे में. 


किरण इशारा कर रही है 

कि सब कुछ ख़त्म नहीं हुआ,

किरण पूछ रही है 

कि असमय अँधेरा हो जाय,

तो खिड़कियाँ बंद कर लेना 

कहाँ की अक़्लमंदी है?


बुधवार, 26 मई 2021

५७१. कोरोना, प्रेम और दूरी



ठीक करती हो तुम 

कि दूर रहती हो मुझसे,

हो सकता है बच जाओ,

पर संभलकर रहना,

मैंने सुना है,

आजकल कोरोना हवाओं में है. 

**

तुम मुझसे दूर रहती हो,

पर मैं कोरोना नहीं हूँ,

यह संभव है 

कि मैं तुम्हारे पास रहूँ,

फिर भी तुम स्वस्थ रहो . 

**

मैं दूसरी लहर का कोरोना हूँ, 

पहली से ज़रा अलग हूँ,

दूर रहकर भी लग जाऊंगा,

तुम्हें पता भी नहीं चलेगा. 


रविवार, 23 मई 2021

५७०. सुनो कवि



सुनो कवि,

तुम्हें नहीं सुनती कोई कराह,

तुम्हें नहीं सुनता कोई क्रंदन,

पर कितना आश्चर्य है 

कि तुम्हें साफ़-साफ़ सुन जाती है 

कोयल की कूक. 

***

सुनो कवि,

तुम अंधे तो नहीं हो,

देख सकते हो,

बहरे भी नहीं हो,

सुन सकते हो,

फिर इस तांडव के बीच 

कैसे लिख लेते हो तुम 

कोई प्रेम कविता?

***

सुनो कवि,

मैं नहीं कहता 

कि तुम मत लिखो,

लिखो,ख़ूब लिखो,

पर सच लिखो।

याद रखना,

तुम्हारी अपनी आँखें 

तुम्हारी क़लम की ओर 

टकटकी बांधे देख रही हैं.


शुक्रवार, 21 मई 2021

५६९. कोरोना में इतवार

 




इतवार आ गया?

कब आया,

पता ही नहीं चला,

दूसरे दिनों जैसा ही है 

इतवार का दिन भी. 


घरों में बंद,

सूनी गली की ओर 

खिड़कियों से झाँकते 

या टी.वी. पर कोई 

देखा हुआ सीरियल 

फिर से देखते. 


कोई सिनेमा-हॉल,

कोई पिकनिक,

कोई बाज़ार,

कोई घुमक्कड़ी-

कुछ भी नहीं,

जैसे आया है,

वैसे ही चुपचाप 

चला जाएगा इतवार. 


एक से हो गए हैं 

अब सप्ताह के सारे दिन,

कोरोना ने छीन लिया है 

इतवार से उसका ताज.


गुरुवार, 20 मई 2021

५६८.आवाज़ें



मेरे कान सुन्न हो रहे हैं

मौत की ख़बरें सुन-सुनकर,

यह कैसा सिलसिला है,

जो थमने का नाम ही नहीं लेता?


धराशाई हो रहे हैं 

नए-पुराने पेड़,

हर वक़्त सुनाई देती है 

किसी के गिरने की आवाज़. 


हाहाकार मचा है चारों ओर,

क्रंदन गूँजता है हवाओं में,

कराहता है कोई आस-पास,

भागती है सायरन बजाती एम्बुलेंस. 


बंद करो ये आवाज़ें,

अगर ये जल्दी बंद नहीं हुईं,

तो मुझे डर है 

कि मैं कहीं बहरा न हो जाऊँ।