शुक्रवार, 12 जून 2020

४४६. पुरानी दुनिया

Coronavirus, Virus, Mask, Corona

सड़कें सूनी हैं,
पक्षी ख़ामोश हैं,
हवाएँ लौट रही हैं
बंद दरवाज़ों से टकराकर.

सूरज उगता है,
मारा-मारा फिरता है
सुबह से शाम तक,
फिर डूब जाता है.

मुँह पर पट्टी बंधी है,
पहले की तरह बोलना 
अब संभव नहीं,
किसी को गले लगाना 
ख़तरे से ख़ाली नहीं.

अब हर आदमी 
शक के घेरे में है,
अब हर चीज़ से 
डर लगता है.

कोरोना ने बदल दी है 
हम सब की दुनिया,
जी चाहता है लौट जाएँ
अब उसी पुरानी
बेतरतीब दुनिया में.

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 13 जून जून 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सचमुच कोरोना ने दुनिया बदल दी है । और चिन्ताएं बढ़ा दी हैं...सबके मन की बात कहती है आपकी कविता ।

    जवाब देंहटाएं
  3. एक डरावनी हकीकत....जिसे कल शायद एक दुःस्वप्न समझ कर भूलना चाहेंगे, पर भूल ना पाएंगे।

    जवाब देंहटाएं
  4. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार (08-06-2020) को 'कुछ किताबों के सफेद पन्नों पर' (चर्चा अंक-3733) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह !लाजवाब सृजन आदरणीय सर .

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह वाकई दिल छू जाने वाली कविता ,बहुत सुंदर

    हिंदी में पढने वालो के लिए वाकई बेहतरीन ब्लॉग ! धन्यवाद सर जी
    Appsguruji (आप सभी के लिए बेहतरीन आर्टिकल संग्रह) Navin Bhardwaj

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे
    Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    जवाब देंहटाएं