शुक्रवार, 31 जुलाई 2020

४६४. चाय और कविता

Black Coffee, Coffee, Cup, Desk, Drink

इन दिनों मुझसे 
रूठी हुई है मेरी कविता.

कभी वे भी दिन थे,
जब एक कप चाय पर 
मुकम्मल हो जाती थीं 
मेरी कई सारी कविताएँ.

अब लग जाता है मेज़ पर 
ख़ाली कपों का ढेर,
पर काग़ज़ है  
कि कोरा ही पड़ा रहता है.

शायद चाय पी-पीकर 
ऊब गई है मेरी कविता,
अब क्या पिलाऊँ उसे 
कि लौट आए मेरी कविता. 

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (02-08-2020) को     "मन्दिर का निर्माण"    (चर्चा अंक-3781)    पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 01 अगस्त 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

  3. जय मां हाटेशवरी.......

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    02/08/2020 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जय मां हाटेशवरी.......

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    02/08/2020 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  4. अच्छी कविता 💐 अंत की दो पंक्तियाँ अतिरिक्त लग रही हैं । मेरी बात अन्यथा मत लीजियेगा ।

    जवाब देंहटाएं
  5. शायद चाय पी-पीकर
    ऊब गई है मेरी कविता,
    अब क्या पिलाऊँ उसे
    कि लौट आए मेरी कविता.

    हा, हा, हा....😃

    कृपया अन्यथा न लें
    तो सुझाव दूं
    रम या बियर या As you wish 😄😄😄😄

    जवाब देंहटाएं
  6. होता है की बार लेखनी रूठी सी प्रतीत होती है और वो अवसाद के क्षण भी कुछ तो लिखवाही देते हैं।
    अच्छी कविता ।

    जवाब देंहटाएं
  7. कई बार ऐसा होता है ,जब भावनाएं आती तो हैं ,लेकिन कागज पर नहीं उतरतीं । ऐसे समय के अपने मनोभावों को आपने इस छोटी रचना में बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है। हार्दिक शुभेच्छाएँ ।

    जवाब देंहटाएं