रविवार, 2 अगस्त 2020

४६५ . नाम

Woman, Girl, Freedom, Happy, Sun

मेरा नाम पुराने स्टाइल का है,
थोड़ा लम्बा भी है,
मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है,
पर यही नाम जब कभी 
उसके होंठों पर होता है,
मुझे अच्छा लगता है.

उसकी आवाज़ में घुलकर 
मेरा नाम बन जाता है सुरीला,
मिल जाती है उसे नई पहचान.

यही वह पल है,
जब मुझे लगता है,
शेक्सपियर ने सही कहा था
कि नाम में कुछ नहीं रखा.

यही वह पल है,
जब मुझे लगता है
कि नाम लम्बा होना चाहिए,
कुछ देर होंठों पर तो रहे.

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 04 अगस्त 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (04-08-2020) को   "अयोध्या जा पायेंगे तो श्रीरामचरितमानस का पाठ करें"  (चर्चा अंक-3783)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  3. नाम तो बहुत अच्छा है। कविता भी अच्छी लगी। हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं