शनिवार, 27 फ़रवरी 2021

५३९.यात्रा




धड़धड़ाती हुई ट्रेन 

गुज़रती है पुल के ऊपर से,

नीचे बह रही है विशाल नदी,

उसकी लहरें उछल-उछलकर 

लील जाना चाहती है सब कुछ.


आँखें बंद कर लेता हूँ मैं,

विनती करता हूँ पटरियों से,

संभाले रखना ट्रेन को,

प्रार्थना करता हूँ ट्रेन से,

रुकना नहीं, सर्र से निकल जाना.


भूल जाता हूँ मैं 

कि यह आख़िरी नदी नहीं है,

आगे और भी नदियाँ हैं,

जिन्हें मुझे पार करना है. 

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 01 मार्च 2021 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. जीवन में न जाने कितनी नदियाँ पर करनी पड़ती हैं ।कभी हौसले से कभी प्रार्थना से । गहन अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  3. जीवंत शब्द चित्र के साथ गहन चितन लिए सुन्दर सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 01 -03 -2021 ) को 'मौसम ने ली है अँगड़ाई' (चर्चा अंक-3992) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  5. भावनाओं का गूढ़ और अनूठा सृजन ..

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर सन्देश देती सहज रचना , अभी कई नदियां पार करना होगा

    जवाब देंहटाएं