बुधवार, 9 दिसंबर 2020

५१२. मास्क



वैसे तो हम सब 

हमेशा लगाते थे,

इन दिनों तो बस 

दिखा रहे हैं.

**

जो सामने था,

वही तो मुखौटा था,

अब जो चढ़ा है,

मुखौटे पर मास्क नहीं,

तो और क्या है?

**

आँखों पर क्यों चढ़ा रखा है?

मुँह और नाक ही काफ़ी था,

मास्क का बहाना बनाकर 

कम-से-कम नज़रें तो मत चुराओ.

8 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 11-12-2020) को "दहलीज़ से काई नहीं जाने वाली" (चर्चा अंक- 3912) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. आँखों पर क्यों चढ़ा रखा है?

    मुँह और नाक ही काफ़ी था,

    मास्क का बहाना बनाकर

    कम-से-कम नज़रें तो मत चुराओ...बिल्कुल सत्य कथन..।ऐसा हो भी रहा है..।

    जवाब देंहटाएं
  3. करारा कटाक्ष...
    शानदार 🙏💐🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. जो सामने था,

    वही तो मुखौटा था,

    अब जो चढ़ा है,

    मुखौटे पर मास्क नहीं,

    तो और क्या है
    वाह बहुत सुंदर 👌

    जवाब देंहटाएं
  5. आँखों पर क्यों चढ़ा रखा है?
    मुँह और नाक ही काफ़ी था,
    मास्क का बहाना बनाकर
    कम-से-कम नज़रें तो मत चुराओ.

    सुन्दर सृजन....

    जवाब देंहटाएं
  6. आँखों पर क्यों चढ़ा रखा है?
    मुँह और नाक ही काफ़ी था,
    मास्क का बहाना बनाकर
    कम-से-कम नज़रें तो मत चुराओ.
    वाह!!!
    बहुत सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह गज़ब यथार्थ पर सीधा प्रहार सच सटीक।

    जवाब देंहटाएं