शनिवार, 19 दिसंबर 2020

५१५. सूर्यास्त


बस थोड़ी देर में 

शाम होने को है,

उतर रहा है झील में 

लहूलुहान सूरज,

बेसब्री से देख रहे हैं 

किनारे पर खड़े लोग.


मैं सोचता हूँ,

किसी को डूबते हुए देखना 

इतना अच्छा क्यों लगता है.

15 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा आपने, परंतु सूर्य तो अतिशयोक्ति हैं..सुंदर कृति..

    जवाब देंहटाएं
  2. प्रश्न बेहद संवेदनशील है।।।। लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 22 दिसम्बर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. किसी को डूबते हुए देखना
    इतना अच्छा क्यों लगता है.

    –क्या सच में सबको...
    तो
    साधु बिच्छू वाली कहानी क्या कह गयी..

    जवाब देंहटाएं
  5. मन की अवस्था
    हमारी दृष्टि
    बन जाती है ।
    ढलते सूरज की
    रंग शाला,
    किसी को
    मन की चोट,
    किसी को
    सुनहरी शाम
    नज़र आती है ।

    इस अनुभूति के बहाने मनोदशा समझने का भाव जगाने के लिए हार्दिक आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  6. क्या बात ... कभी कभी डूबना उभरने की निशानी हो जाती है ...

    जवाब देंहटाएं
  7. ''किसी को डूबते हुए देखना इतना अच्छा क्यों लगता है''...... गजब !

    जवाब देंहटाएं
  8. शानदार,आखिरी पंक्ति में रचना का निचोड़ है, सच है

    जवाब देंहटाएं