शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

६०७.डूबना

 


बहुत से लोग खड़े थे 

इंतज़ार में साहिल पर

कि मैं डूब जाऊँ,

तो वे बचाने आएँ.

**

मैं जब डूब रहा था,

कई गोताखोर थे साहिल पर,

पर तय नहीं कर पा रहे थे 

कि मुझे कौन बचाएगा. 

**

तैरना नहीं आता,

तो शांति से डूब जाओ,

जो साहिल पर खड़े हैं,

तुम्हें बचाने नहीं,

तमाशा देखने आए हैं. 

**

लहर कहती है,

आओ,मेरे साथ चलो,

ये जो साहिल पर खड़े हैं,

ऐसे बहुतेरे देखे हैं मैंने. 

***

साहिल की ओर देखोगे,

तो मायूसी हाथ लगेगी,

कोई बचाने नहीं आएगा,

चैन से मर भी नहीं पाओगे.


7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 03 अक्टूबर 2021 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (3-10-21) को "दो सितारे देश के"(चर्चा अंक-4206) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा


    जवाब देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  4. हकिकत को बयां करती बहुत उम्दा रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत लाजवाब लिखा है इस को कोई कवि ही समझ सकता हैं

    जवाब देंहटाएं