शनिवार, 21 मार्च 2020

४१२. बेटियां

Adult, Mother, Daughter, Beach, Kids

कच्ची कैरी-सी,
इमली-सी,
गोलगप्पे के चटपटे पानी-सी,
दोने में रखी झालमुड़ी-सी,
झाड़ियों में लगे 
खट्टे-मीठे बेर-सी,
पेड़ पर पड़े झूले-सी,
पत्तों में फुदकती चिड़िया-सी,
फूलों में उडती तितली-सी,
बारिश की फुहार-सी,
जाड़ों की धूप-सी,
बस ऐसी ही होती हैं बेटियां. 

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (23-03-2020) को    "घोर संक्रमित काल"   ( चर्चा अंक -3649)      पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    आप अपने घर में रहें। शासन के निर्देशों का पालन करें।हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    जवाब देंहटाएं
  2. बेटियाँ वास्तव में जिन्दगी की रौनक हैं , बहुत सुन्दर
    भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह शानदार ,झालमुड़ी गजब उपमा रस से सराबोर।
    बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत लाजवाब ...
    बेटियाँ सच में ताजा फुहार हैं घर की ...
    लाजवाब रचना ...

    जवाब देंहटाएं