मंगलवार, 6 दिसंबर 2022

६८३. आइसक्रीम

 



मैं बच्चा था,

तो मुलायम था 

आइसक्रीम की तरह,

बड़ा हुआ,

तो सख़्त हो गया. 

अब मन करता है,

फिर से आइसक्रीम हो जाऊं,

पर इतना आसान नहीं होता 

पत्थर का आइसक्रीम हो जाना,

उससे भी मुश्किल है 

लोगों का यह मान लेना 

कि कल तक जो पत्थर था,

आज आइसक्रीम हो गया है.  

**

मैंने माँगा नहीं,

पर मुझे मिल गईं 

दो-दो आइसक्रीम,

मैं सोचता रहा, 

पहले कौन सी खाऊं,

सोचने-सोचने में पिघल गईं 

दोनों आइसक्रीम. 

**

मुझमें मिठास हो न हो,

उजियारा होना चाहिए,

मैं तैयार हूँ पिघलने को,

पर आइसक्रीम की तरह नहीं,

मोमबत्ती की तरह.  


 

8 टिप्‍पणियां:

  1. कल्‍पना के एक अलग ही स्‍तर पर ले जाती है आपकी कविता- ''अब मन करता है,

    फिर से आइसक्रीम हो जाऊं,

    पर इतना आसान नहीं होता

    पत्थर का आइसक्रीम हो जाना,

    इससे भी मुश्किल है

    लोगों का मान लेना

    कि कल जो पत्थर था,


    आज आइसक्रीम हो गया है. ''...अद्भुत लिखा ओंकार जी आपने

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 08 दिसंबर 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
  3. मुझमें मिठास हो न हो,
    उजियारा होना चाहिए,
    मैं तैयार हूँ पिघलने को,
    पर आइसक्रीम की तरह नहीं,
    मोमबत्ती की तरह.
    बहुत ही सुन्दर
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  4. एका एक बदलना मुश्किल है
    पर धीरे धीरे सब possible है / /

    आपने बचपन कि 20 पैसे वाली आईसक्रिम कि याद दिला दी / / हृदय से धन्यवाद !

    सुन्दर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रकाश फैलाने की उत्तम इच्छा
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. अब मन करता है,

    फिर से आइसक्रीम हो जाऊं,

    पर इतना आसान नहीं होता

    पत्थर का आइसक्रीम हो जाना,

    उससे भी मुश्किल है

    लोगों का यह मान लेना

    कि कल तक जो पत्थर था,

    आज आइसक्रीम हो गया है.
    बहुत सुंदर....
    आइसक्रीम से पत्थर बनने के पीछे भी वजह होती हैं पुनः आइसक्रीम बनने की वजह त़ मिले
    सहु सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति ओंकार जी।आपकी सरल और सहज रचनाएँ बहुत मर्मस्पर्शी होती हैं 🙏

    जवाब देंहटाएं
  8. nice info!! can't wait to your next post!
    comment by: muhammad solehuddin
    greetings from malaysia

    जवाब देंहटाएं