शुक्रवार, 8 नवंबर 2019

३८६.सूरज

Sunrise, Sun, Morgenrot, Skies

घर की बालकनी से मैं
सूरज को ताकता हूँ,
सूरज मुस्कराता है,
पूछ्ता है,'उठ गए ?
मैं भी उठ गया.'

लाल गुलाल सी किरणें 
मेरे चेहरे पर
मल देता है सूरज. 

मैं कमरे में लौटता हूँ,
आईने में देखता हूँ,
चेहरा तो साफ़ है,
पर महसूस करता हूँ 
कि  रंग दिया है सूरज ने 
कहीं गहरे तक मुझे. 

6 टिप्‍पणियां:

  1. प्रकृति जो भी रंग लगाए वो कम है साहब...हम हैं कि बेरंग होने पर तुले रहते हैं।
    बहुत ही लाजवाब ।

    मेरी नई पोस्ट पर स्वागत है👉👉 जागृत आँख 

    जवाब देंहटाएं
  2. .. वाह बेहद खूबसूरत पंक्तियां रंग दिया है सूरज ने मुझे कहीं गहरे तक बहुत ही अच्छा लिखा आपने मन को भा गई आपकी यह रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (10 -11-2019) को "आज रामजी लौटे हैं घर" (चर्चा अंक- 3515) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं….
    **********************
    रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह बहुत खूब सुंदर एहसास ।
    तृप्त भावों का चित्रण।

    जवाब देंहटाएं
  5. दिन की लाली वाही तो लाता है और पोत देता है ताजगी ...
    लाजवाब रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    जवाब देंहटाएं