शनिवार, 19 जनवरी 2019

३४२. रेलगाड़ी


मुझे रेलगाड़ी अच्छी लगती है,
दौड़ती चली जाती है
दो पटरियों पर लगातार, 
जैसे ध्यान-मग्न हो.

दिखाती चलती है 
धरती के अलग-अलग रंग,
मिलाती है अजनबियों से,
रुक जाती है प्लेटफ़ॉर्म पर 
सब के लिए बाहें फैलाए.

वैसे तो हवाई जहाज 
बड़ी जल्दी पहुंचा देता है 
अपनी मंज़िल पर,
मगर उसमें यात्रा का 
वह आनंद कहाँ,
जो रेलगाड़ी में है.

मुझे हवाई जहाज 
इसलिए भी पसंद नहीं 
कि वह हवा में उड़ता है 
और मुझे अच्छा लगता है 
ज़मीन से जुड़े रहना.

6 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे भी हवाई जहाज में मजा नहीं आता है । बहुत सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (21-01-2019) को "पहन पीत परिधान" (चर्चा अंक-3223) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    जवाब देंहटाएं
  3. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 20/01/2019 की बुलेटिन, " भारत के 'जेम्स बॉन्ड' को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम“ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  4. रेलगाड़ियों की बात ही कुछ अलग है ..., बहुत सुन्दर रचना ।

    जवाब देंहटाएं