शुक्रवार, 8 दिसंबर 2017

२८८. स्टेशन

मैं चुपचाप जा रहा था ट्रेन से,
न जाने तुम कहाँ से चढ़ी 
मेरे ही डिब्बे में
और आकर बैठ गई 
मेरे ही बराबरवाली सीट पर.

धीरे-धीरे बातें शुरू हुईं 
और बातों ही बातों में 
हमने तय कर लिया 
कि हम एक ही स्टेशन पर उतरेंगें,
वह स्टेशन कोई भी क्यों न हो.

पर छोटे-से सफ़र में 
न जाने क्या गड़बड़ हुई, 
तुमने कह दिया
कि ऐसे किसी भी स्टेशन पर 
तुम उतर जाओगी,
जहाँ मैं नहीं उतरूंगा.

मैंने भी सोच लिया है 
कि ऐसे किसी भी स्टेशन पर 
मैं उतर जाऊंगा,
जहाँ तुम उतरोगी.

क्या कोई ऐसा भी स्टेशन है,
जहाँ से ट्रेन 
न आगे जाती हो,
न पीछे लौटती हो?

अगर है, तो आओ हम दोनों 
उसी स्टेशन पर उतर जाएं.

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 10 दिसम्बर 2017 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (10-12-2017) को "प्यार नहीं व्यापार" (चर्चा अंक-2813) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन के कसमकस में फसे आपसी संबंध जहर से भी कड़वे होते हैं, न आगे जाए बने न पीछे ही जाया जाय, मन बेचारा अब कहाँ जाय।
    आदरणीय ओंकार केडिया जी, प्रेम से विभोर सुंदर रचना हेतु बधाई व सुप्रभात।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह...!!!
    बेहतरीन कशमकश के साथ आप ने किरदारों की मनोस्थिति परोस दी, बहुत ही प्रभावशाली रचना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह्ह्ह....गहन भाव लिये सुंदर रचना आपकी ओंकार जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह ! जीवन का सफ़र भी कुछ ऐसा ही प्रतीत होता है। रहस्य के धागे बुनती एक तत्व बोधी रचना। बधाई एवं शुभकामनाऐं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय ओंकार जी -- काश ! कोई ऐसा स्टेशन सचमुच होता !!भावुक मन की इस मासूम कल्पना को नमन | सुंदर रचना -- सादर शुभकामना |

    उत्तर देंहटाएं