शनिवार, 28 मार्च 2020

४१५. पंछी बनकर देखें

Hello Baby, Sank, Fly, Animal, Nature

थोड़े दिन के लिए 
चलो,पंछी बनकर देखें,
मुँह अँधेरे उठ जायँ,
चहकें साथ मिलकर,
डाली-डाली, पेड़-पेड़ फुदकें,
जहाँ मर्ज़ी बैठें,
उड़ान भरें मुक्त आकाश में,
सूरज को क़रीब से देखें.

अपने ही घर में झांकें
बंद खिडकियों के पार से,
घोंसला बना लें 
कहीं किसी पेड़ पर,
मुंडेर पर रखे कटोरे से 
चोंच-भर पानी पी लें,
आँगन में फेंका गया दाना 
थोड़ा-सा चुग लें.

बहुत देख लिया इंसान बनकर,
लॉकडाउन खुलने तक 
चलो पंछी बनकर देखें.

गुरुवार, 26 मार्च 2020

४१४. खटिया

Bed, Camp, Camp Bed, Cot, Cot, Cot, Cot
वह जो खटिया तुमने 
आँगन के कोने में रखी है,
धूप में तपती है,
बारिश में भीगती है.

निवारें फट रही हैं उसकी,
पाए टूट रहे हैं,
हवा से चरमराती है,
दर्द से कराहती है वह खटिया.

थोड़ी सुध ले लो उसकी,
थोड़ी मरम्मत करा दो उसकी,
चाहो तो आँगन में ही रखो,
पर धूप-बारिश से बचा लो उसको.

कैसे समझओगो आज ख़ुद को,
कैसे अनदेखी करोगे उसकी,
आज तो तुम यह भी नहीं कह सकते 
कि तुम्हारे पास समय नहीं है.

मंगलवार, 24 मार्च 2020

४१३. लॉकडाउन में किताबें

Books, Bookshelf, Library, Literature

सालों बाद ख़ुश हैं 
अलमारी में रखी किताबें,
शायद कोई निकालेगा उनको,
शायद धूल झड़ेगी उनकी.

बुकमार्क काम आएगा शायद,
पलटे जाएंगे किताबों के पन्ने,
पढ़े जाएंगे उनमें लिखे शब्द,
सराहा जाएगा शायद उनको.

झूलेंगी आरामकुर्सी पर किताबें,
कमरे से बालकनी में आएंगी,
खुली हवा में सांस लेंगी,
महसूस करेंगी चाय की महक.

अलमारी में रखी किताबें इंतज़ार में हैं,
रह-रह कर देख रही हैं उम्मीद से,
शायद अब फिरेंगे दिन उनके,
शायद टूटेगा उनका लॉकडाउन.

शनिवार, 21 मार्च 2020

४१२. बेटियां

Adult, Mother, Daughter, Beach, Kids

कच्ची कैरी-सी,
इमली-सी,
गोलगप्पे के चटपटे पानी-सी,
दोने में रखी झालमुड़ी-सी,
झाड़ियों में लगे 
खट्टे-मीठे बेर-सी,
पेड़ पर पड़े झूले-सी,
पत्तों में फुदकती चिड़िया-सी,
फूलों में उडती तितली-सी,
बारिश की फुहार-सी,
जाड़ों की धूप-सी,
बस ऐसी ही होती हैं बेटियां. 

गुरुवार, 19 मार्च 2020

४११. डर


एक डर है,
जो अन्दर गहरे 
घुसा जा रहा है.

नींद की तलाश में 
रातें बिस्तर पर 
करवटें बदलती हैं.

बड़ी देर में होती हैं 
आजकल सुबहें,
सूरज थका-सा लगता है.

दोपहर उदास है,
शाम चिड़चिड़ी-सी,
वक़्त जैसे ठहरा पानी.

चाँद निकल आया है 
आसमान में, लेकिन 
उसमें धब्बे बहुत हैं.

मुझे आश्चर्य होता है 
कि कैसे बदल देता है दुनिया 
एक बिनबुलाया डर.