रविवार, 10 फ़रवरी 2013

६७.कविता की खोज

कल एक कविता ख्यालों में आई,
मैं पकड़ पाता हाथ बढ़ाकर
इससे पहले गायब हो गई.

बहुत परेशान हूँ मैं,
कैसे रपट लिखाऊं,
कैसे इश्तेहार छपवाऊँ,
गुमशुदा अपनी कविता को 
कैसे लौटाकर लाऊँ?

कोई शक्ल-सूरत हो
तो उसे खोजा भी जाए,
जो कागज़ पर उतरने से पहले ही 
गायब हो गई हो,
उस कविता को कैसे ढूँढा जाए?


9 टिप्‍पणियां:

  1. yah ak hakikat hai,sochte- sochte aur kalm dhoodhte-dhoodhnte kabhi kabhi kavitaye gayab ho jati hai,sundar aur satik prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी! होता अक्सर यही है
    जब ख़यालों मे होती है कविता,तब समय नही और जब कागज पर उतारने का समय मिलता है तब तक गायब.
    सटीक अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रपट की एक कापी हमें भी भेज दीजिएगा। हमे भी रपट लिखानी है बहुत सी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. अक्सर ऐसा हो जाता है,,,सुंदर प्रस्तुति ,,,

    RECENT POST... नवगीत,

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने ह्रदय में खोजिये....
    वहीं तो छुपी है....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच में कविता यदि खो जाए तो किस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराएं |उम्दा कविता |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन की आँखें खोलके वो एहसास फिर से जाग जाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. sach hai kavita jab hath chhod chali jati hai mushkil se hi vapas aati hai..
    koshish karte rahiye sundar abhivyakti..

    उत्तर देंहटाएं
  9. achha likha hai..hota hai aksar.... kho jati hain panktiyan...bhaav

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं