शुक्रवार, 27 नवंबर 2020

५०८. मास्क

राग दिल्ली वेबसाइट(https://www.raagdelhi.com/) पर प्रकाशित मेरी कविताएँ 



मास्क – 1


तुम्हारे मुँह और नाक पर

मास्क लगा है,

पर तुम बोल सकते हो,

बोलना मत छोड़ो,

जब तक कि तुम्हें

पूरी तरह चुप न करा दिया जाय.

**

मास्क – 2


बहुत भोले हैं हम,

कहते हैं, मास्क के चलते  

लोग पहचाने नहीं जा रहे,

जैसे कि बिना मास्क के

पहचाने जा रहे थे.

**

मास्क – 3


मास्क लगाया ही है,

तो पूरी तरह लगाओ,

जब खुल के छिपा रहे हो,

तो आधा-अधूरा क्या छिपाना?

**

मास्क – 4


सभी घूम रहे हैं मास्क लगाकर,

सभी एक से लगते हैं,

वैसे भी क्या फ़र्क है

आदमी और आदमी में?

*****

9 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (29-11-2020) को  "असम्भव कुछ भी नहीं"  (चर्चा अंक-3900)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन.....

    इन विचारोत्तेजक कविताओं के लिए साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  4. अर्थपूर्ण, सामयिक व सुन्दर रचना - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  5. वैसे भी क्या फ़र्क है
    आदमी और आदमी में?

    –क्या सच में फर्क नहीं आदमी और आदमी में..!

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत खूब ... मास्क भी सियासी है, स्वतंत्र है ... प्रतीक है ...

    जवाब देंहटाएं