शनिवार, 21 नवंबर 2020

५०६. कोरोना में दूरी



इन दिनों ज़रूरी है 

दूरी बनाए रखना,

थोड़ी नहीं,ज़्यादा.


इन दिनों ज़रूरी है 

किसी के गले न लगना,

किसी से हाथ न मिलाना, 

किसी के पास न जाना.


इन दिनों ज़रूरी है 

दिलों का क़रीब होना,

इतना कि ज़रा सा भी 

फ़ासला न रहे.


इन दिनों ज़रूरी है 

दूसरों के काम आना,

उनका दर्द महसूस करना 

और यह सब संभव है 

दो गज की दूरी रखकर भी.


11 टिप्‍पणियां:

  1. इन दिनों ज़रूरी है

    दूसरों के काम आना,

    उनका दर्द महसूस करना

    और यह सब संभव है

    दो गज की दूरी रखकर भी...बिल्कुल सही कहा है आपने..।सुंदर सृजन..।

    जवाब देंहटाएं
  2. इन दिनों दो गज की दूरी बहुत जरूरी है । बेहतरीन सृजन.

    जवाब देंहटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 23 नवंबर 2020 को 'इन दिनों ज़रूरी है दूसरों के काम आना' (चर्चा अंक-3894) पर भी होगी।--
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. इन दिनों ज़रूरी है

    दूसरों के काम आना,

    उनका दर्द महसूस करना

    और यह सब संभव है

    दो गज की दूरी रखकर भी.

    वाकई
    सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  5. इन दिनों ज़रूरी है
    दूसरों के काम आना,
    उनका दर्द महसूस करना
    और यह सब संभव है
    दो गज की दूरी रखकर भी...बहुत ख़ूबसूरती से कहा।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर कृति - - अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति - - इस कोरोना के समय ये सोच बहुत ही ज़रूरी है - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  7. इन दिनों ज़रूरी है
    दूसरों के काम आना,
    उनका दर्द महसूस करना
    और यह सब संभव है
    दो गज की दूरी रखकर भी ...
    सहज सरल शब्दों में सटीक बात कही आपने

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भावात्मक सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं