शनिवार, 5 मार्च 2016

२०५. छोटी-सी ख़ुशी

ठंडी-ठंडी सुबहों में घुल गई है 
हल्की-सी गर्माहट,
जैसे किसी उदास चेहरे पर 
छा जाए थोड़ी-सी मुस्कराहट.
जैसे घुप्प अँधेरे में दिख जाए 
हल्की-सी किरण,
जैसे मनहूस ख़बरों के बीच 
आ जाए कोई शुभ समाचार.
जैसे उजाड़ बगीचे में
खिल जाए कोई खूबसूरत फूल,
जैसे सूखे पेड़ पर 
निकल आए कोई हरा पत्ता. 

छोटी-सी ख़ुशी जो ज़रूरत पर मिले 
बड़ी ख़ुशी से ज़्यादा अच्छी लगती है. 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-03-2016) को "ख़्वाब और ख़याल-फागुन आया रे" (चर्चा अंक-2273) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. छोटी-सी ख़ुशी जो ज़रूरत पर मिले
    बड़ी ख़ुशी से ज़्यादा अच्छी लगती है....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन प्रस्तुति, महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut sunder kavita..
    Mere blog ki new post par aapke vichaar ka swagat hai...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये छोटी छोटी खुशियाँ हैं तभी तो जीवन है ... नहीं तो नीरसता घर कर लेती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut sahi kaha aapne.
    Thanks & Welcome to my new blog post...

    उत्तर देंहटाएं