शनिवार, 4 मई 2013

७९. शब्द

आजकल बार-बार करना पड़ता है 
कुछ शब्दों का प्रयोग,
सोचना नहीं पड़ता उन्हें,
याद हो गए हैं वे,
स्थिति बनते ही 
खुद-ब-खुद चले आते हैं.

अपने-आप बैठ जाते हैं 
हर किसी की ज़ुबान पर,
बिना किसी प्रयास के 
कागज़ पर उतर आते हैं.

आजकल बार-बार प्रयोग में आते हैं 
हत्या, बलात्कार,लूट,
अपमान,बेईमान जैसे शब्द,
दूसरों को मौका ही नहीं देते.

आजकल भूलने लगा हूँ मैं 
बहुत सारे शब्द 
जो बचपन में सीखे थे,
आजकल मैं शब्दकोष 
साथ लेकर चलता हूँ.

4 टिप्‍पणियां:

  1. आजकल भूलने लगा हूँ मैं
    बहुत सारे शब्द
    जो बचपन में सीखे थे,
    आजकल मैं शब्दकोष
    साथ लेकर चलता हूँ.

    बहुत उम्दा, बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    उत्तर देंहटाएं
  2. वस्तुस्थिति बयां करती कविता ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ ऐसे शब्द जो डिक्शनरी में भी नहीं होने चाहियें ... आज आम चलते हैं ..
    कितना अफ़सोस होता है ... प्रभावी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आजकल बार-बार प्रयोग में आते हैं
    हत्या, बलात्कार,लूट,
    अपमान,बेईमान जैसे शब्द,
    दूसरों को मौका ही नहीं देते.

    ...बिल्कुल सच...बहुत सटीक और सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं