शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

२६९. बूढ़ा


अपने आप से बात करता 
वह बूढ़ा बड़ा अजीब लगता है,
बेपरवाह, बेख़बर,
बस चलता जा रहा है 
अपनी ही धुन में,
ख़ुद से ही बतियाता.

एक वह भी वक़्त था,
जब घिरा रहता था वह 
चाहनेवालों से,
पर अब कोई नहीं,
न कोई दोस्त,
न कोई अपना,
किसी के काम का नहीं,
अब निपट अकेला है वह.

बूढ़ा मजबूर है,
जिससे कोई बात न करे,
वह ख़ुद से बात न करे,
तो और क्या करे?

13 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (23-07-2017) को "शंखनाद करो कृष्ण" (चर्चा अंक 2675) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. मर्मस्पर्शी आपकी रचना ओंकार जी, वृद्ध हृदय की व्यथा का चित्रण। सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 23 जुलाई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्र के पढाव को बाखूबी लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितने सरल शब्दों में वृद्धावस्था की सबसे बड़ी समस्या को उभार दिया आपने ! मैं कभी कभी अपने कॉलेज की छात्राओं को वृद्धाश्रम ले जाती हूँ । उन्हें हम कुछ देना चाहें तो लेते नहीं,कहते हैं सिर्फ मिलने आते रहा करो....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बूढ़ों को कौन पूछता है आजकल..।
    बहुत ही सुन्इ अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल बुढ़ापे में अक्सर ऐसा देखा गया है
    वृद्धावस्था की स्थिति पर कोमल भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सत्य का अनावरण करती आपकी बहुत ही भावनात्मक रचना आभार ''एकलव्य ''

    उत्तर देंहटाएं
  9. बुज़ुर्गों की उपेक्षा आज का जलता हुआ सवाल है। समाज को बुढ़ापे के प्रति संवेदनशील बनाना ज़रूरी है। उम्र के इस पड़ाव से उसे भी गुज़रना है जो आज जवानी के मद में डूबकर बुढ़ापे को हेय या हिक़ारत की दृष्टि से देखता है।
    बहुत प्रभावी एवं प्रेरक रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीय ओंकार जी - ये जीवन का भयावह चित्र है | आँखें नम कर देने वाली रचना पढ़कर निशब्द हूँ !!!! ऐसे प्रसंग समाज में कहीं भी और कभी भी देख सकते हैं | जो कभी परिवार को पोषित कर परिवार का केंद्र हुआ करते थे ऐसे बुजुर्ग अनायास जब इतने अकेले पड़ जाते हैं कि लोई इनसे बात करना नहीं चाहता तो वे अपनी बाते खुद से ही दुहराते नजर आते है | भौतिकता की भूख और चकाचौंध ने समाज को निर्लेप और निष्ठुर बना दिया है | इस भावपूर्ण रचना पर आपको मेरी शुभ कामना मिले --

    उत्तर देंहटाएं