शनिवार, 7 जुलाई 2012

39. प्यार या सहारा

यह जो तुम्हारे कंधे पर 
मैंने अपना हाथ रखा है,
प्यार से रखा है,
क्या तुमने समझा है?

मेरी हथेलियों की 
थोड़ी अतिरिक्त  ऊष्मा,
एक अलग-सी कोमलता,
क्या तुमने महसूस की है?

यह जो तुम्हारे कंधे पर 
मैंने अपना हाथ रखा है,
सहारे के लिए नहीं रखा है,
सहारा ही लेना होता 
तो लाठी बेहतर होती,
न कसमसाती,
न एहसान जताती,
न इस दुविधा में रहती 
कि मैंने उसपर अपना हाथ 
सहारे के लिए रखा है 
या सिर्फ प्यार से...

12 टिप्‍पणियां:

  1. मन के भावो को शब्दों में उतर दिया आपने.... बहुत खुबसूरत.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहन भाव लिए बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह जो तुम्हारे कंधे पर
    मैंने अपना हाथ रखा है,
    सहारे के लिए नहीं रखा है,
    सहारा ही लेना होता
    तो लाठी बेहतर होती,
    न कसमसाती,
    न एहसान जताती,
    न इस दुविधा में रहती
    कि मैंने उसपर अपना हाथ
    सहारे के लिए रखा है
    या सिर्फ प्यार से...बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम पगे भाव लिए सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर भाव मई लाजबाब प्रस्तुति,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह..
    बहुत सुन्दर भाव,,,,,
    इंसानी फितरत है ही ऐसी...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल रविवार को 08 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज हलचल में .... आपातकालीन हलचल .

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर पोस्ट से हमारी टिप्पणी स्पाम में जा रही है ...प्लीस देखिये सर.

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह||||
    गहरे भाव लिए सुन्दर रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं