शनिवार, 28 जुलाई 2012

४२.माँ

जब तुम नहीं रहोगी
तो कौन बंद कराएगा टी.वी.
ताकि बहराते कानों को सुन सके 
ट्रेन की सीटी की आवाज़.


कौन झांक-झांक कर देखेगा
खिड़की के परदे की ओट से 
कि स्टेशन से आकर कोई रिक्शा
घर के बाहर रुका तो नहीं.


कौन कहेगा कि आज खाने में 
भरवां भिन्डी ज़रूर बनाना,
कौन कहेगा कि चाय में 
चीनी बहुत कम डालना.


कौन बतियाएगा घंटों तक,
पूछेगा छोटी से छोटी खबर,
साझा करेगा हर गुज़रा पल
सुख का या दुःख का.


जब मैं हँसूंगा तो कौन कहेगा,
अब बस भी करो,
मेरी आँखें कमज़ोर ही सही,
पर क्या मैं नहीं जानती 
कि तुम दरअसल हँस नहीं रहे 
हँसने का नाटक कर रहे हो. 

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर...
    हृदयस्पर्शी रचना......
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही-सुख-दुख माँ संग जो बाँटे जा सकते हैं किसी और के संग नहीं........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन अहसासों की सुखद प्रस्तुति,,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. माँ के साथ बिताए सुखद अहसास...

    उत्तर देंहटाएं