गुरुवार, 26 जनवरी 2012

१९. इंसान 

मेरे गम में वह रोया,
मेरी खुशी में मुस्कराया,
जब लगी चोट 
तो मरहम लगाया.

गिरने से बचाया उसने 
जब-जब मैं लडखडाया,
मैं कभी गिरा तो
उसने बढ़कर उठाया.

घर से निकला तो 
फूल बिछाए उसने,
चुन-चुन कर हटाये उसने 
कांटे और कंकर.

वह मेरा कोई न था,
न मेरे घर का,
न पड़ोस का,
न ही कोई दोस्त,
दूर का रिश्तेदार भी नहीं.

मैंने पूछा, 'इतना सब किसलिए?'
उसने कहा,'क्योंकि मैं भी इन्सान हूँ.'

9 टिप्‍पणियां:

  1. अभी भी इंसानियत बची हुई है ... अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब! आज इसी इंसानियत की ही तो ज़रूरत है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! काश.. सभी को सोच इतनी रचनात्मक हो जाय।

    उत्तर देंहटाएं
  6. sach insan hi insan ke kaam aata hai..nate rishtedaar to ham banate hain...
    bahut sundar chintanbodh karati rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  7. उसने कहा क्योंकि मैं भी इन्सान हूँ
    बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं