शनिवार, 19 नवंबर 2011

११. अनछपी कविताएँ

देखो, जब मैं मरूं,
मेरी अनछपी कविताएँ
मेरी चिता पर रख देना,
पर ध्यान रहे,
वे मेरे साथ जल न जाएँ;
हवाएं जब उड़ायें मेरी राख,
देखना, वे बिखर न जाएँ.

मेरी अस्थियों का हो विसर्जन,
तो साथ हों मेरी अनछपी कविताएँ,
पर देखना, कहीं वे गल न जाएँ.

बहुत प्रिय हैं मुझे
अपनी तिरस्कृत कविताएँ,
नहीं सह पाऊंगा मैं
उनका और अपमान अपने बाद
और न ही उनका अंत.

11 टिप्‍पणियां:

  1. रचना कोई भी हो... कविता कोई भी हो, हमेशा सम्मानीय है!
    कवि के मनोभावों को खूब व्यक्त करती है यह कविता... रचनाकार की वेदना की अप्रतिम अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्रिय हैं मुझे
    अपनी तिरस्कृत कविताएँ,
    नहीं सह पाऊंगा मैं
    उनका और अपमान अपने बाद
    और न ही उनका अंत... sachchiii nihshabd ker diya aapne ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर शब्द और अद्भुत भाव लिए अप्रतिम रचना ...बधाई


    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनी हर रचना अपनी अनमोल निधि सी ही लगती है ...
    भावमय प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह!!!
    कवि का दर्द झलक आया..
    बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिलकुल सही बहुत सी अनछपी कविताएं है... जिन्हें शब्द भी नही मिले है.....

    उत्तर देंहटाएं