रविवार, 10 जून 2012

३६.शर्म

देखो, कभी तुम थक जाओ 
तो सुस्ता लेना,
थकने में कोई शर्म नहीं है,
थकान को कभी मत छिपाना,
कुछ भी छिपाना गलत है.


कभी नींद आए तो सो जाना,
ज़रुरी नहीं कि रात को ही सोया जाए,
गलत नहीं है दिन में सोना,
सोने के लिए नींद ज़रुरी है,
अँधेरा नहीं. 


कभी दिल करे तो सोए रहना,
उठना ज़रुरी नहीं है,
नहीं उठने में कोई शर्म नहीं है,
हर कोई एक बार तो ऐसे सोता ही है 
कि फिर कभी न उठे.

8 टिप्‍पणियां:

  1. हर कोई एक बार तो ऐसे सोता ही है ..... बहुत खूब ... गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश के सो पाते इस तरह......
    और जब जी चाहे उठ पाते....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी दिल करे तो सोए रहना,
    उठना ज़रुरी नहीं है,
    नहीं उठने में कोई शर्म नहीं है,
    हर कोई एक बार तो ऐसे सोता ही है
    कि फिर कभी न उठे.
    सुंदर रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ अलग से .... विरक्त से , निर्वाण से भाव

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब! बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी कों ऐसा न सोना पड़े की वो उठ भी न सके ..

    उत्तर देंहटाएं